July 30, 2021

टीम इंडिया से खेलने के लिए गिड़गिड़ाया पाकिस्तान, अब कर डाली ये पेशकश

Spread the love

लाहौर.भारत-पाकिस्तान (India vs Pakistan) की क्रिकेट टीमों के बीच साल 2012 से कोई भी द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली गई है. दोनों देशों के तनावपूर्ण संबंधों का असर क्रिकेट पर भी देखने को मिला है. भारत-पाकिस्तान की टीमें फिलहाल आईसीसी इवेंट्स (ICC Events) और एशिया कप (Asia Cup) में ही आपस में भिड़ती हैं. हाल ही में सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति के मुखिया विनोद राय (Vinod Rai) ने साफ कर दिया था कि भारत किसी भी तटस्‍थ स्‍थान पर पाकिस्तान से खेलने के लिए तैयार है, लेकिन भारत या पाकिस्तान में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सीरीज फिलहाल नहीं होगी. हालांकि पाकिस्तान भारतीय टीम के साथ खेलने को लेकर बेताब है. इसे लेकर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) के सीईओ वसीम खान (Wasim Khan) ने बड़ा बयान दिया है.

भारत के साथ कहीं भी खेलने को तैयार हैं हम
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) के सीईओ वसीम खान (Wasim Khan) ने टीम इंडिया और पाकिस्तान (India vs Pakistan) के बीच सीरीज की इच्छा जताई है. फिलहाल पाकिस्तान की टीम श्रीलंका की मेजबानी कर रही है. इस सीरीज में तीन वनडे और तीन टी-20 मुकाबले खेले जाएंगे. साल 2009 में हुए आतंकी हमले के बाद अधिकतर अंतरराष्ट्रीय टीमों ने पाकिस्तान का दौरा करने से परहेज ही किया है. अब पीसीबी (PCB) के सीईओ वसीम खान ने कहा है कि दोनों देश भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट फिर से शुरू होते देखना चाहते हैं. मगर इसके लिए दोनों टीमों की अपनी-अपनी सरकारों पर निर्भरता है. हम चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच जल्द ही क्रिकेट शुरू हो जाए. इसके लिए हम भारत से कहीं भी खेलने को तैयार हैं. मगर अहम यही है कि दोनों देश क्रिकेट खेलें.

वसीम खान (Wasim Khan) ने साथ ही कहा कि क्रिकेट दोनों देशों के लोगों को पास लाने का अच्छा जरिया है. वसीम ने इन खबरों को भी खारिज कर दिया कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने श्रीलंका को पाकिस्तान में खेलने के लिए राजी करने को लेकर श्रीलंकाई बोर्ड को पैसे भी दिए थे. उन्होंने कहा कि हमने श्रीलंका को एक भी पैसा नहीं दिया है. वे बिना कोई पैसा लिए पाकिस्तान में खेलने आए हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि श्रीलंका के इस दौरे के बाद अब पाकिस्तान को अपने घरेलू मैच यूएई जैसे वैकल्पिक जगहों पर आयोजित करने की जरूरत नहीं पड़ेगी.