January 17, 2022

दामाद को मंत्री बनाकर परिवारवाद की राजनीति में घिरे मुख्यमंत्री पिनराई विजयन

Spread the love

नई दिल्ली । वामपंथी दल उच्च राजनीतिक मूल्यों पर आधारित राजनीति करने की बात तो करते हैं लेकिन जब मौका आता है तो इन्हीं मूल्यों पर खरा नहीं उतरते हैं। अन्य राजनीतिक दलों की तरह ही वामपंथ पर भी परिवारवाद हावी होने लगा है। इतना ही नहीं पार्टी के भीतर आंतरिक लोकतंत्र खत्म हो रहा है तथा केरल में पार्टी एक व्यक्ति पर केंद्रित होकर रह गई है जिसके फैसलों पर सवाल नहीं उठाए जा सकते हैं। केरल में 40 सालों के बाद लगातार दोबारा सत्ता में आकर वामपंथी दलों ने एक नया रिकॉर्ड तो बनाया है। लेकिन दोबारा मुख्यमंत्री बने पिनराई विजयन अपने दामाद पीए मोहम्मद रियाज को मंत्री बनाकर घिर गए हैं। जबकि पिछले कार्यकाल में सफल स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा को दोबारा मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई है। इन दोनों फैसलों को लेकर लेकर विजयन सोशल मीडिया पर तो निशाने पर आ ही गए हैं लेकिन पार्टी के भीतर भी इसे लेकर नाराजगी बताई जा रही है। भाकपा नेता अतुल अंजान हालांकि इस मुद्दे पर विजयन का बचाव करते हुए कहते हैं कि दामाद यदि काबिल है तो उसे मंत्री बनाने में कोई हर्ज नहीं है। यह फैसला योग्यता के आधार पर लिया गया है। वह सक्रिय युवा नेता हैं। इसे दूसरे दलों में हावी भाई-भतीजावाद की भांति नहीं देखा जा सकता है। इसी प्रकार उन्होंने नई कैबिनेट बनाई है जिसमें नए चेहरों को तवज्जो दी गई है। दूसरी तरफ पार्टी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि एक मुख्यमंत्री के लिए अपने दामाद को मंत्रिंमडल में शामिल करना वामंपथी राजनीतिक मूल्यों के विरुद्ध है। यदि यह तर्क स्वीकार भी कर लिया जाए कि मंत्रिमंडल में नए चेहरों को तवज्जो दी जा रही है, तो 99 विधायकों में से दामाद का चयन साफ-साफ परिवारवाद को बढ़ावा देना दर्शाता है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ।