July 29, 2021

फडणवीस महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर शाह से चर्चा करेंगे, शरद पवार सोनिया गांधी से मिलेंगे

Spread the love

अटकलें हैं कि शिवसेना राकांपा-कांग्रेस गठबंधन से समर्थन लेकर महाराष्ट्र में सरकार बना सकती है
संजय राउत ने कहा था- शिवसेना के पास 170 विधायकों का समर्थन, इसलिए मुख्यमंत्री हमारा होगा
राकांपा नेता अजित पवार ने रविवार को दावा किया था कि राउत की तरफ से उन्हें मैसेज मिला

नई दिल्ली. महाराष्ट्र में चुनाव नतीजे आने के 10 दिन बाद भी भाजपा-शिवसेना गठबंधन में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी काे लेकर काेई झुकने काे तैयार नहीं है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह से दिल्ली में इस मुद्दे पर चर्चा कर सकते हैं। वहीं, राकांपा प्रमुख शरद पवार भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे। अटकलें हैं कि शिवसेना, राकांपा-कांग्रेस से समर्थन लेकर अपनी सरकार बनाने की तैयारी में है। रविवार को शिवसेना ने कहा था कि उसके पास 170 विधायकों का समर्थन है।
शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत शाम को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करेंगे। राउत ने बताया कि वे राज्यपाल से अपील करेंगे कि सबसे बड़ी पार्टी को पहले सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करें। इससे पहले राउत ने कहा था कि उनके पास 170 विधायकाें का समर्थन है और मुख्यमंत्री शिवसेना का हाेगा। राउत ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि विधायकाें का समर्थन हासिल करने के लिए सरकारी एजेंसियाें और अपराधियाें का इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्हाेंने कहा कि जल्द ही इसका खुलासा करूंगा।
राउत ने राकांपा नेता अजीत पवार को मैसेज भेजा
संजय राउत ने राकांपा नेता अजित पवार काे मैसेज भी भेजा है। पवार ने राउत के इस मैसेज काे सार्वजनिक किया। इसमें राउत ने लिखा है- नमस्कार मी, संजय राउत, जय महाराष्ट्र। इस पर अजीत पवार ने कहा कि मैं फोन करके जांच करूंगा कि राउत ने फोन क्यों किया। शिवसेना के 170 विधायकाें के समर्थन के दावे पर अजित ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है।
भाजपा-शिवसेना 50-50 खेल रहीं: ओवैसी
केंद्रीय मंत्री और आरपीआई नेता रामदास अठावले ने कहा कि अगर 7 नवंबर तक काेई पार्टी सरकार बनाने का दावा नहीं करेगी ताे राज्यपाल अपनी ओर से राजनीतिक पहल करेंगे। वहीं एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने तंज कसा। उन्हाेंने कहा कि साथ चुनाव लड़ने के बाद अब भाजपा-शिवसेना 50-50 खेल रही हैं, जबकि महाराष्ट्र के किसान बेमाैसम बारिश से बेहाल हैं