November 28, 2021

क्या ज़्यादा वर्कआउट से बढ़ता है दिल के दौरे का ख़तरा

Spread the love

Heart Attack After Workout: यूं तो भारत में दिल की बीमारी से हो रही मौतों का कोई आंकड़ा नहीं है, लेकिन दुनिया में लाखों लोगों की मौत का कारण दिल का रोग ही है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि साल 2030 तक यह आंकड़ा तीन करोड़ तक पहुंच सकता है। भारत की बात करें तो यहां हो रही मौतों में 26 प्रतिशत मौतें हार्ट डिजीज़ से हो रही हैं। सबसे ताज्जुब की बात यह कि 18 साल की उम्र के युवा भी इस घातक बीमारी की चपेट में आ रहे हैं।

ज़्यादा वर्कआउट से बढ़ता है हार्ट अटैक का ख़तरा

हम सभी यह जानते हैं कि नियमित रूप से वर्कआउट करना एक फिट लाइफस्टाइल का हिस्सा होता है। अगर आप हमेशा सेहतमंद और फिट रहना चाहते हैं, तो रोज़ाना कम से कम 30 मिनट एक्सरसाइज़ करना ज़रूरी भी है। इससे न सिर्फ हमारी बॉडी आकर्षक दिखती है बल्कि कई तरह से स्वास्थ लाभ भी होते हैं। जिसमें स्किन और बालों का हेल्दी होना, हड्डियां मज़बूत होना, जोड़ों के दर्द से राहत, तनाव से छुटकारा और हल्कापन महसूस होना शामिल है।

हालांकि, कई लोग बॉडी बनाने के लिए रोज़ाना 3-4 घंटे जिम में बिताते है, लेकिन इससे आप बॉडी तो बना लेंगे, लेकिन नए जोखिमों को भी न्योता देंगे। कुछ समय पहले हुए शोध से पता चला है कि जो लोग रोज़ाना high intensity exercise करते हैं, उनमें अचानक हृदय गति रुकने का ख़तरा बढ़ सकता है।

एक्सरसाइज़ करें या न करें?

जिम के बाद कार्डियक अरेस्ट और दिल के दौरे की घटनाएं भले ही बढ़ रही हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप अपने ट्रेनिंग शूज़ को फेंक दें। इसमें कोई शक़ नहीं कि एक्सरसाइज़ करना सेहत के लिए बेहद ज़रूरी है, लेकिन सवाल है कि कितनी एक्सरसाइज़? हर शख़्स को कम से कम 30 मिनट वर्कआउट रोज़ाना करना चाहिए, जिसमें मध्यन इंटेंसिटी की एक्सरसाइज़ शामिल होनी चाहिए ताकि आपके शरीर को फायदा मिल सके। ध्यान आपको अपने शरीर की फिज़ीकल ताक़त को चुनौती न देने से बचना चाहिए। खासतौर पर अगर कोई जेनेटिक या दिल से जुड़ी समस्या से जूझ रहा हो। अगर आपने हाल ही में वर्कआउट शुरू किया है या आप प्रो हैं, तब भी ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ न करें।