October 18, 2021

मेडिटेशन करने का बेहतरीन तरीका है त्राटक मेडिटेशन, आंखों की रोशनी भी तेज हो जाती है.

Spread the love

कैसे किया जाता है त्राटक मेडिटेशन, जानें फायदे भी

नईदिल्ली। दिमाग व मन को शांत करने के लिए मेडिटेशन कई तरह से किया जाता है. मेडिटेशन की मदद से ऊर्जा और विचारों को कंट्रोल करने की कोशिश की जाती है. त्राटक मेडिटेशन भी ध्यान लगाने का एक तरीका है. जो हमारी आंखों की कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है. अगर त्राटक के शाब्दिक अर्थ की बात करें, तो इसका मतलब किसी चीज को देखना या घूरना होता है.

त्राटक मेडिटेशन कैसे किया जाता है?
त्राटक मेडिटेशन करने के लिए निम्नलिखित तरीकों को अपनाएं. जैसे-

सबसे पहले ध्यान लगाने की मुद्रा में बैठ जाएं.
अब अपने सामने एक हाथ की दूरी पर मोमबत्ती रखें और उसकी ऊंचाई इस तरह रखें कि मोमबत्ती की बाती आपकी छाती के सामने आए.
आंखों को बंद करके छाती, कंधे, भौहें, गर्दन सभी अंगों को तनावरहित करके आरामदायक स्थिति में बैठ जाएं.
अब आंखे खोलें और मोमबत्ती की बाती पर बिना पलक झपकाए एकटक देखें. बाती में मौजूद तीनों रंगों पर ध्यान लगाएं.
कुछ सेकंड देखने के बाद आंखें बंद करें और फिर बाती की छवि को याद करें.
कुछ देर बाद फिर से आंखें खोलें और एकटक बाती देखें और फिर आंख बंद करके बाती की छवि का ध्यान करें.
इसी प्रक्रिया को 3 से 4 बार दोहराएं और नियमित अभ्यास से बाती को देखने और छवि बनाने की अवधि बढ़ाएं.
आप बाती की जगह किसी काले कागज, काली बिंदु आदि पर भी ध्यान लगा सकते हैं.

त्राटक मेडिटेशन के फायदे-
आंखों और दिमाग के बीच संबंध स्थापित होता है.
आंखों की मसल्स मजबूत होती है और रोशनी बढ़ती है.
फोकस करने की क्षमता बढ़ती है.
इंसोम्निया व नींद ना आने की समस्या दूर होती है.

नोट- अगर आपको आंखों की कोई समस्या है, तो यह मेडिटेशन ना करें.