September 17, 2021

ट्रांसपोर्ट और श्रमिकों को बेवजह न रोके राज्य, गृह मंत्रालय ने गाइडलाइन का पालन करने दिया निर्देश

Spread the love

रायपुर. गृह मंत्रालय ने देश में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए व्यापक गाइडलाइन जारी की है। जिससे आवश्यक सेवाओं और सामानों की आपूर्ति पूरे देश में सुनिश्चित हो सके और लोगों को होने वाली दिक्कतों से बचाया जा सके.

मंत्रालय ने राज्यों को लॉक डाउन के पालन के लिए निर्देशित करते हुए चिट्ठी लिखी है जिससे ट्रक कार्गो, कामगार, वेयरहाउस कोल्ड स्टोरेज राज्य के भीतर और बाहर सुचारू रूप से सक्रिय रहे। मंत्रालय ने कहा है कि यह बात संज्ञान में आई है कि देश के कुछ हिस्सों में पूर्व के दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। आवश्यक और अनावश्यक वस्तुओं को ले जाने वाले ट्रकों को रोक दिये जा रहे हैं।

गृह मंत्रालय ने अपने ख़त में कहा है कि आवश्यक वस्तुओं के विनिर्माण इकाइयों के संचालन के लिए आवश्यक श्रमिकों और अन्य छूट प्राप्त श्रेणियों को काम करने के लिए आवाजाही करने के लिए कई जगह अनुमति नहीं मिल रही है।

गृह मंत्रालय ने इस बात पर भी चिंता जताई है कि दो राज्यों के बीच समन्वय की कमी से आवश्यक काम और सेवाओं को जारी रखने में बाधा आ रही है। अगर एक राज्य किसी काम और सेवा के लिए पास जारी कर रहा है तो दूसरा उसे नहीं मान रहा है।

मंत्रालय का कहना है कि कोल्ड स्टोरेज और गोदामों के संचालन की अनुमति नहीं दी जा रही है। गृह मंत्रालय का कहना है कि इस तरह की रोकथाम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की कमी हो रही है।

कार्यान्वयन के स्तर पर स्पष्टता के दृष्टिकोण के साथ इस बार गृह मंत्रालय ने इसका सख्ती से पालन करने को कहा है।

अपने निर्देश में गृह मंत्रालय ने कहा है कि ड्राइवर और एक अतिरिक्त व्यक्ति के साथ सभी ट्रकों और अन्य मालवाहक वाहनों के राज्य के भीतर और बाहर आवाजाह की अनुमति है। भले ही समान आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में आता हो या न आता हो।

अब इसके लिए किसी और परमिट या अनुमोदन की आवश्यकता नहीं होगी।

खाली ट्रकों और मालवाहकों को माल लेने जाने के लिए आवाजाही की अनुमति दी जानी चाहिए। इसलिए, खाली ट्रकों को रोकने का कोई कारण नहीं है। बशर्ते उनके पास वैध दस्तावेज हों जैसे ड्राइविंग लाइसेंस और सड़क परमिट आदि। स्थानीय अधिकारियों को ट्रक चालकों और क्लीनर को अपने घर से ट्रक तक और अपने ट्रक के लोकेशन पर आवाजाही की सुविधा प्रदान करनी चाहिए। स्थानीय अधिकारियों को सभी औद्योगिक और वाणिज्यिक गतिविधियों के संबंध में श्रमिकों को कार्यस्थल जाने और आने की सुविधा प्रदान करनी चाहिए। रेलवे, हवाई अड्डे, बंदरगाह और सीमा शुल्क अधिकारियों को अपने कर्मचारियों और संविदात्मक श्रमिकों के लिए पास जारी करने के लिए पहले से ही अधिकृत किया गया है। इसे सुनिश्चित किया जाना चाहिए। राज्य सरकार ये सुनिश्चित करे कि राज्य के भीतर और राज्य के बाहर इन पासो को मान्यता दे। गेहूं के आटे (अटा), दाल (दाल) और खाद्य तेलों जैसी आवश्यक वस्तुओं के निर्माण में लगे उपक्रमों को बिना किसी बाधा के स्वतंत्र रूप से कार्य करने की अनुमति दी जानी चाहिए। गोदामों और कोल्ड स्टोरेज को स्वतंत्र रूप से काम करने की अनुमति दी जानी चाहिए। चाहे वह आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में आये या या आये। कंपनियों के गोदामों को भी संचालित करने की अनुमति दी जानी चाहिए। यह आगे निर्देशित किया गया है कि ये वसीयतें स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार उन क्षेत्रों के अलावा सभी क्षेत्रों पर लागू होंगी, जिनमें अधिकारियों ने COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए हॉटस्पॉट के रूप में चिन्हित किया है या क्वारंटाइन के लिए प्रतिबंधित किया है। इन कामो के लिए व्यक्तियों और वाहनों की आवाजाही में स्वच्छता और सामाजिक दूरियों के मानदंडों का सख्त पालन करना ज़रूरी जी। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों से जिला अधिकारियों और फील्ड एजेंसियों को उपरोक्त निर्देशों के बारे में सूचित करने का अनुरोध किया गया है। ताकि जमीनी स्तर पर कोई अस्पष्टता न हो।

Leave a Reply