November 28, 2021

बैंकों को अपनाना होगा पार्टनरशिप का मॉडल

Spread the love

PM नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि सरकार ने बीते 6-7 साल में बैंकिंग सेक्टर में जो सुधार किए हैं। बैंकिंग सेक्टर का हर तरह से सपोर्ट किया, उस वजह से आज देश का बैंकिंग सेक्टर बहुत मजबूत स्थिति में है। Build Synergy for Seamless Credit Flow and Economic Growth कार्यक्रम में PM मोदी ने कहा कि आप भी यह महसूस करते हैं कि बैंकों की Financial Health अब काफी सुधरी हुई स्थिति में है। हम IBC जैसे reforms लाए, अनेक कानूनों में सुधार किए, डेट रिकवरी ट्रायब्‍यूनल को सशक्त किया।

Covid mahamari में देश में एक dedicated Stressed Asset Management Vertical का गठन भी किया गया। 2014 के पहले की जितनी भी परेशानियां थीं, चुनौतियां थीं, हमने एक-एक करके उनके समाधान के रास्ते तलाशे हैं।

PM ने कहा कि हमने NPAs की समस्या को एड्रेस किया, बैंकों को recapitalize किया, उनकी ताकत को बढ़ाया। आज भारत के बैंकों की ताकत इतनी बढ़ चुकी है कि वो देश की इकॉनॉमी को नई ऊर्जा देने में, एक बड़ा Push देने में, भारत को आत्मनिर्भर बनाने में बहुत बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

PM ने कहा-मैं इस चरण को भारत के बैंकिंग सेक्टर का एक बड़ा मील का पत्‍थर मानता हूं। आप Approver हैं और सामने वाला Applicant, आप दाता हैं और सामने वाला याचक, इस भावना को छोड़कर अब बैंकों को पार्टनरशिप का मॉडल अपनाना होगा। आप सभी PLI स्कीम के बारे में जानते हैं। इसमें सरकार भी कुछ ऐसा ही कर रही है। जो भारत के मैन्यूफैक्चर्स हैं, वो अपनी कपैसिटी कई गुना बढ़ाएं।

PM ने कहा कि खुद को ग्लोबल कंपनी में बदलें, इसके लिए सरकार उन्हें प्रॉडक्शन पर इंसेटिव दे रही है। बीते कुछ समय में देश में जो बड़े-बड़े परिवर्तन हुए हैं, जो योजनाएं लागू हुई हैं, उनसे जो देश में डेटा का बड़ा पूल क्रिएट हुआ है, उनका लाभ बैंकिंग सेक्टर को जरूर उठाना चाहिए।

आज जब देश फाइनेंशियल इनकलशन पर इतनी मेहनत कर रहा है तब नागरिकों के productive potential को अनलॉक करना बहुत जरूरी है। जैसे अभी बैंकिंग सेक्टर की ही एक रिसर्च में सामने आया है कि जिन राज्यों में जनधन खाते जितने ज्यादा खुले हैं, वहां क्राइम रेट उतना ही कम हुआ है। PM ने कहा कि आज Corporates और start-ups जिस स्केल पर आगे आ रहे हैं, वो अभूतपूर्व है। ऐसे में भारत की Aspirations को मजबूत करने का, फंड करने का, उनमें इन्वेस्ट करने का इससे बेहतरीन समय क्या हो सकता है?