दिल्ली नगर निगम चुनाव में 11 केंद्रीय मंत्री, चार मुख्यमंत्री भाजपा का प्रचार करेंगे

दिल्ली नगर निगम चुनाव में 11 केंद्रीय मंत्री, चार मुख्यमंत्री भाजपा का प्रचार करेंगे
Ro No. 12172/19

Ro No. 12172/19

Ro No. 12172/19

Ro No. 12172/19

Ro No. 12172/19

Ro No. 12172/19

नई दिल्ली ।  दिल्ली नगर निगम चुनाव के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत 11 केंद्रीय मंत्री  प्रचार करेंगे। योगी आदित्यनाथ समेत चार मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के अलावा सुशील मोदी भी स्टार प्रचारकों में शामिल हैं। दिल्ली के सभी सांसदों को भी स्टार प्रचारक बनाया गया है। नगर निगम चुनाव में बीजेपी के कुल 40 स्टार प्रचारक मैदान में उतरेंगे।
दिल्ली नगर निगम चुनाव की तैयारियों के बीच प्रदेश बीजेपी ने गुरुवार को आम आदमी पार्टी सरकार पर अपने वादों को पूरा नहीं करने का आरोप लगाया और उसके खिलाफ एक “आरोप पत्र” भी जारी किया। बीजेपी के वरिष्ठ नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में “आरोप पत्र” पढ़ते हुए दावा किया कि इसमें उठाए गए मुद्दों की पड़ताल कर ली गई है। साथ ही उन्होंने ‘आप' के संयोजक अरविंद केजरीवाल को उनके साथ इस पर बहस करने की चुनौती दी।
बिधूड़ी ने आरोप लगाया, “अपने आठ साल के शासन में केजरीवाल सरकार ने दिल्ली को दुनिया की सबसे प्रदूषित राष्ट्रीय राजधानी और शहर की हर गली में शराब की दुकानें खोलने की अनुमति देकर इसे नशे की राजधानी भी बना दिया।” उन्होंने कहा कि केंद्र द्वारा यमुना की सफाई के लिए 2,500 करोड़ रुपये मुहैया कराए जाने के बाद भी आम आदमी पार्टी की सरकार में यह नदी गंदे पानी का नाला बनी हुई है।
दिल्ली के मुख्यमंत्री पर आरोप लगाते हुए बिधूड़ी ने कहा, “केजरीवाल संविधान में विश्वास नहीं करते', उन्होंने (केजरीवाल) दिल्ली जल बोर्ड का कोई लेखा परीक्षण (ऑडिट) नहीं कराया, जो घाटे में चल रहा था और विधानसभा में विभागों का नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षण से आडिट कराने को भी नजरअंदाज किया।
दिल्ली विधानसभा में विपक्षी नेता ने स्वास्थ्य, शिक्षा, पानी और बिजली आपूर्ति, सार्वजनिक परिवहन के साथ कई अन्य क्षेत्रों में केजरीवाल सरकार की “विफलताओं ” का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि ‘आप' सरकार ने विश्व स्तरीय स्वास्थ्य और शिक्षा मॉडल देने का दावा किया है पर वास्तव में 8 साल से सत्ता में रहने के बाद भी ये (आप) “एक स्कूल, कॉलेज या अस्पताल” खोलने में भी विफल रही है।